Coronavirus Kya Hai In Hindi: जानिए कोरोना वायरस क्या हैं?

कोरोना वायरस क्या हैं?

कोरोना वायरस क्या हैं और उसमें ऐसा क्या हैं जो पूरा अन्तर्राष्ट्रिय समुदाय उससे थर्र- थर्र कांप रहा हैं और वो क्या विशेषताएं हैं जो इस वायरस को पहले के तमाम वायरसों से अलग बनाता हैं? आइए जानते हैं।

कोरोना वायरस इतना खतरनाक हैं कि, ये ना केवल इंसानो बल्कि जानवरों को भी बीमार कर सकता हैं। यह एक RNA वायरस हैं जिसका तात्पर्य हैं कि, यह एक शरीर के भीतर कोशिकाओं मे टूट जाता हैं और उनका प्रयोग खुद को उत्पन्न करने के लिए करता हैं।

coronavirus kya hai in hindi

कोरोना वायरस कितना खतरनाक हैं कि, इसकी शुरुआत ’’ सी-फुड ’’ से हुई हैं क्योंकि चीन के वुहान शहर में एक ’’ सी-फूड ’’ बाजार हैं जहां से इसकी शुरुआत हुई हैं और इसका अंदाजा आप इस बात से लगा सकते हैं कि, विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इस वायरस को पहले ही आगाह कर दिया हैं क्योंकि ये वायरस जितना खतरनाक हैं उतना खतरनाक इसका संक्रमण हैं क्योंकि ये संक्रमण के देखते ही देखते एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल जाता हैं और वो दूसरा व्यक्ति भी संक्रमित हो जाता हैं।

इस वायरस के लक्षण निमोनिया की तरह हैं और इस वायरस का संबंध कोरोना वायरस के परिवार से हैं।

पेंडेमिक घोषित किया जा चुका हैं कोरोना वायरस को ?

कोरोना की संवेदनशीलता को देखते हुए इसे ’’ पेंडेमिक घोषित ’’ किया जा चुका हैं। पेंडेमिक का अर्थ हैं वो बीमारी या फिर वायरस जो किसी एक देश या क्षेत्र तक सीमित ना हो बल्कि जिसका प्रभाव पूरे विश्व में देखने को मिलता हैं पेंडेमिक कहलाता हैं।

कब और किस तरह से शुरुआत हुई इस कोरोना वायरस की?

कोरोना वायरस की शुरुआत उस दिन हुई थी जब पुरा विश्व नव वर्ष के हर्षों-उल्लास के मद में चूर था और नये साल के इंतजार के साथ-साथ कहीं ना कहीं एक नया शांति भरा, समृद्ध और विकसित विश्व का इंतजार हो रहा था अर्थात् 31 दिसम्बर,2019 ही वो तारिख हैं जिस दिन कोरोना वायरस की विधिवत् शुरुआत हुई। इस वायरस की शुरुआत चीन से हुई।

कैसे हुई शुरुआत कोरोना वायरस की?

31 दिसम्बर, 2019 को चीन में, कोरोना वायरस की शुरआत समुन्द्री जीव-जन्तुओं के माध्यम से हुआ।

कोरोना वायरस जानवरों में भी पाया जाता हैं और दक्षिणी चीन में समुन्द्र के आस-पास रहने वाले लोगों को सबसे पहले कोरोना वायरस ने अपना शिकार बनाया जिनमें वुहान शहर शामिल हैं क्योंकि दक्षिणी चीन के बाजारों में काफी मात्रा में समुन्द्री जीव मिलते हैं जिसकी वजह से ये वायरस सरलता से लोगो के भीतर अपना घर बनाने में सफल हुआ। अन्त हम कह सकते हैं कि, कोरोना वायरस की आधिकारीक शुरुआत यहीं से हुई।

किस तरह से फैलता हैं ये वायरस ?

कोरोना वायरस के फैलने की गति बेहद तेज हैं क्योंकि इसकी फैलने की पूरी प्रक्रिया बेहद सामान्य और सरल हैं क्योंकि कोरोना वायरस सिर्फ खासीं और छींक के द्धारा लोगो में फैल सकती हैं और साथ ही साथ ये लार के जरीए निकट संपर्क अर्थात् चुम्बन या फिर इस्तेमाल किये हुए बर्तनों से भी फैल सकता हैं। इसके संक्रमण की प्रक्रिया बेहद आम और सामान्य हैं इसलिए इसे संक्रमित होने की संभावना भी काफी अधिक हैं।

आइए जानते हैं क्या हैं कोरोना के लक्षण-

कोरोना के लक्षणों का जानना हमारे लिए बेहद जरुरी हैं क्योंकि सरकार तो हमारी सुरक्षा के लिए हर संभव कदम उठा ही रही हैं पर हमें अपने स्तर पर भी तो इससे अपनी सुरक्षा के लिए कदम उठाने होंगे। कोरोना के लक्षण इस प्रकार हैं-

  1. इस वायरस से संक्रमित होने के लक्षण कम से कम 14 दिनों में उजागर होते हैं,
  2. जुकाम, खासी, गले में दर्द व
  3. सांस लेने में परेशानी आदि कुछ शुरुआती लक्षण हैं
  4. इसके बाद ये किडनी को भी नुकसान पहुंचाते हैं।

उपरोक्त वर्णित लक्षण बेहद सामान्य हैं इसलिए हमारे लिए ये बेहद जरुरी हैं कि, हम इनमें से किसी भी लक्षण को हल्के में ना ले और तुरन्त चिकित्सक की सलाह ले।

कोरोना से अपनी सुरक्षा के लिए क्या कर सकते हैं आप ?

कोरोना से अपनी सुरक्षा के लिए क्या कर सकते हैं आप क्योंकि आपकी सुरक्षा आपके हाथ हैं हालांकि भारत सरकार अपनी तरफ से हर संभव कोशिश कर रही हैं भारत को इस वायरस से बचाने की पर अपनी सुऱक्षा के प्रति हमारा भी तो कुछ दायित्व हैं।

इस वायरस से बचने के आठ सूत्र अर्थात् 8 Formula इस प्रकार हैं-

  1. समय-समय पर अच्छे से हाथ धोईए क्योंकि हाथ को समय-समय पर धोना कोरोना को भगाने का सबसे सटीक और अचूक माध्यम हैं इसलिए हम कह सकते हैं कि, हाथ धोईए-कोरोना को भगाईए,
  2. आंख, नाक और मुंह से अपने हाथो को दूर ही रखें क्योंकि बार-बार आपके द्धारा आंख, नाक और मुंह पर हाथ लगाने से या फिर छुने से ये वायरस तुरन्त आपको अपना शिकार बना लेता हैं इसलिए कोशिश कीजिए कि, अपने हाथों को अपने शरीर के इन जरुरी अंगो से दूर ही रखें क्योंकि हो सकता हैं कि, आपके हाथों ने किसी संक्रमित वस्तु या फिर संक्रमित जगह को छु लिया हो। इसलिए अपने हाथों को अपनी आंख, नाक और मुंह से दूर ही रखें।
  3. सार्वजनिक परिवहन के दौरान बरते ये सावधानीयां क्योंकि सार्वजनिक परिवहन खासकर मेट्रो और बसों में सफर के दौरान अपने चेहरे को ढक कर रखे ताकि आपके संक्रमित होने की संभावना कम से कम हो। इसके लिए आप एन95 या फिर एन99 मास्क का प्रयोग कर सकते हैं,
  4. खुद को रोंके जब भी हाथ मिलाए क्योंकि वायरस के फैलने की अधिकतन संभावना हाथों के द्धारा ही होती हैं। यदि आपके हाथ गंदे है या फिर सामने वाले के हाथ गंदे हैं तो फिर या तो आप उसे संक्रमित कर देंगे या फिर आप उससे संक्रमित हो जाएंगे,
  5. भीड-भाड वाली जगहों से दूर रहें क्योंकि भीड-भाड वाली जगहो में जितनी ज्यादा भीड़ होती हैं उतनी ही इस वायरस से संक्रमित होने की संभावना प्रबल होती हैं क्योंकि आपको कोई अंदाजा नहीं होता कि, इस भीड़ में कौन संक्रमित हैं, इसलिए खुद को इस तरह की जगह जाने से रोंके,
  6. रेलवे स्टेशनो और एअरपोर्ट्स का त्याग करें क्योंकि डॉक्टरों की सलाह के मुताबिक इन जगहों पर भीड़ ज्यादा होती हैं जिसकी वजह से यह वायरस भी काफी तेजी से इन जगहो पर एक से दूसरे में फैल सकता हैं,
  7. कोशिश करें कि, सामाजिक समारोहों से दूर ही रहें क्योंकि सामाजिक समारोह अर्थात् मिलना-जुलना और साथ में खाना-पीना ये वो चीजे हैं जिनकी वजह से आप सरलता से इस वायरस की चपेट मे आ सकते हैं। इसलिए कोशिश करें कि, जहां तक संभव हो इनसे दूर ही रहें,
  8. जागरुकता अपनाए और कोरोना को अपनो से दूर भगाएं क्योंकि बिना जागरुकता के आप और ज्यादा कोरोना के करीब आ जायेंगे इसलिए कोशिश करे कि, कोरोना से संबंधित हर जानकारी से आप जानकार हो ताकि ना सिर्फ खुद के लिए बल्कि अपने और अपने परिवार की सुरक्षा को सुनिश्चित कर सकें।

अन्त में सिर्फ इतना ही कह सकते हैं कि, सर्तकता अपनाए और कोरोना भगाएं।

Updated: March 27, 2020 — 3:28 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *